वॉन्टेड
जानकारी जो न्याय तक पहुंचाती है...

ज़ैरिन सरी

$3 मिलियन तक पुरस्कार

ज़ैरिन सैरी रिवोल्यूशनरी पीपल्स लिबरेशन पार्टी/फ्रंट की एक मुख्य नेता है (तुर्की: देवरीमिकी हालक कर्टुलस पारतिसी सेफैसी या DHKP/C)। DHKP/C ने 1994 में इसके निर्माण के समय से ही, जब इसके पूर्व नेता, देवरीमिकी सोल या देव सोल, जो इससे अलग हो गया था, अमेरिकी हितों को निशाना बनाया है, जिसमें अमेरिकी सैन्य और राजनयिक कर्मियों और कार्यस्थलों शामिल हैं। इसका उद्देश्य तुर्की से अमेरिकी और नेटो (NATO) के पदचिन्हों को पूरी तरह से समाप्त कर देना है, और एक समाजवादी राज्य की स्थापना करना है। कथित तौर पर उसने फरवरी 1, 2013 को, अंकारा स्थित अमेरिकी दूतावास पर आत्मघाती बम विस्फोट हमले का आदेश दिया था, जिसमें एक तुर्की सुरक्षा गार्ड मारा गया था। अमेरिकी विदेश विभाग ने 1997 में DHKP/C को एक विदेशी आतंकवादी संगठन नामित किया और जुलाई 24, 2013 को उनके इस नामित होने की समीक्षा की और उसे कायम रखा है।

ज़ैरिन सैरी एक वकील है जिसने 1990 के दशक में देव सोल की रक्षा के लिए काम किया जब तक कि वह 1993 में तुर्की भाग गई। वह DHKP/C के संस्थापक नेता, डरसन कारातास से शादी की और वे दोनों ने इकट्ठे मिलकर यूरोप में DHKP/C की गतिविधियों का आयोजन किया। सैरी को 1999 में बेल्जियम में ट्रायल पर डाला गया था; उसने जेल में कुछ समय बिताया और उसे 2008 में छोड़ दिया गया जिस साल कारातास की कैंसर से मृत्यु हो गई। कहा जाता है कि वह DHKP/C की खुफिया नेता है, और उसने कथित तौर पर सितम्बर 20, 2013 को तुर्की पुलिस मुख्यालय और अंकारा में पुलिस आवासीय परिसर पर हमले के लिए आदेश दिया था। सैरी को मूसा असोगलु के साथ मिलकर, अंकारा में जस्टिस एंड डेवलपमेंट पार्टी (AKP) के मुख्यालयों और तुर्की के न्याय मंत्रालय पर मार्च 2013 के हमलों के लिए भी जिम्मेदार माना जाता है, जिसमें एक व्यक्ति घायल हो गया।

मूसा असोगलु, ज़ैरिन सैरी और सेहर दामिर रिवोल्यूशनरी पीपल्स लिबरेशन पार्टी/फ्रंट के मुख्य नेता हैं (तुर्की: देवरीमिकी हालक कर्टुलस पारतिसी सेफैसी या DHKP/C)।

अतिरिक्त फोटोज़

की अतिरिक्त फोटो ज़ैरिन सरी
की अतिरिक्त फोटो ज़ैरिन सरी