सफलता की कहानी

कुसे हुसैन

मृत

कुसे हुसैन सद्दाम के पहले विवाह से उत्पन्न दो पुत्रों में छोटा पुत्र था और सद्दाम की मृत्यु हो जाने की परिस्थिति में विस्तृत रूप से उसके द्वारा शासन किए जाने की उम्मीद की जाती थी। कुसे इराकी इंटेलिजेंस सर्विस, सुरक्षा सेवाओं, रिपब्लिकन गार्ड और विशेष रिपब्लिकन गार्ड का मुखिया था जिसे इराकी सैन्य बलों में सबसे सक्षम के रूप में विस्तृत रूप से स्वीकार किया जाता था।

23 जुलाई 2003 को एक स्रोत द्वारा प्रदान की गई जानकारी के फलस्वरूप उदय और कुसे हुसैन की स्थिति का पता चल गया। 101वें एयरबोर्न डिविज़न की सहायता से टास्क फोर्स 20 ने इन व्यक्तियों को बन्दी बनाने के लिए एक कार्यवाही का संचालन किया। चार घंटे की लड़ाई चली जिसके परिणाम-स्वरूप उदय और कुसे हुसैन की मृत्यु हो गई।

रिवॉर्डज़ फॉर जस्टिम कार्यक्रम ने उस जानकारी के लिए एक पुरस्कार प्रदान किया जिसके फलस्वरूप उदय और कुसे हुसैन की स्थिति का पता चला।