वॉन्टेड
जानकारी जो न्याय तक पहुंचाती है...

मोहम्मद मकावी इब्राहिम मोहम्मद

$5 मिलियन तक पुरस्कार

01 जनवरी 2008 को अमेरिकी नागरिक और युनाइटेड स्टेट्स एजेंसी फॉर इंटरनेशनल डिवेलपमेंट (USAID) के कर्मचारी जॉन ग्रेनविल और उनके सूडानी ड्राइवर अबदलरहमान अब्बास रहामा को गोली मार दी गई और खारतूम, सूडान में नये साल की पार्टी से वापस घर को आते समय हत्या कर दी गई। ग्रेनविल, उम्र 33, सूडान में लोकतंत्र और शासन कार्यक्रमों पर काम कर रहे थे। अब्बास, उम्र 39, ने 2004 में USAID में डारफुर में उसकी आपदा सहायता रिस्पांस टीम के एक सदस्य के रूप में शामिल हुआ था। दो समूहों ने अलग-अलग इस हमले की जिम्मेदारी ली है: अनसर अल-तावीद (एकेश्वरवाद के समर्थक) और अल कायदा इन दी लैंडस ऑफ टू नाइल्स (AQTN)।

सूडानी कानूनी प्रणाली ने उन पर मुकद्दमा चलाया और इस हत्या में उनकी भागीदारी के लिए पांच लोगों को दोषी करार दिया। अबदेलराउफ़ अबू ज़ैद मोहम्मद हमज़ा, मोहम्मद मकावी इब्राहिम मोहम्मद, अबदेल बासीत अलहज़ अलहसन हज़ हमद और मोहनद ओसमान यूसफ़ मोहम्मद को फांसी पर लटकाकर मौत की सजा दी गई पर वे अपनी सजा के एक साल बाद जेल से भाग गये। खबर है कि मई 2011 में सोमालिया में मोहनद की मृत्यु हो गई। सूडानी अधिकारियों ने अबदेलरॉफ़ को दुबारा पकड़ लिया। मकावी और अबदलबासीत अब भी फ़रार हैं।

मकावी ने सूडान में अल कायदा इन दी लैंडस ऑफ टू नाइल्स नामक एक समूह से संबंधित था, जिसने अमेरिका, अन्य पश्चिमी और सूडानी हितों पर हमला करने की योजना बनाई थी। वह उस समूह का नेता था जिसने 01 जनवरी 2008 का हमला करवाया था और इन हत्याओं में दो गोली चलाने वालों में से एक के रूप में पहचाना जाता था। वह 11 जून 2010 को खारतूम में खोबार जेल से भागने के बाद, मकावी इस समय वह सोमालिया में है।