आतंक की क्रियाएं
इनके बारे में जानकारी ...

यू.एस. दूतावासों पर बम गिराया जाना

कीनिया और तन्जानिया | 7 अगस्त 1998

 

7 अगस्त, 1998 को आतंकवादी समूह अल-क़ायदा के सदस्यों ने एक साथ नैरोबी, कीनिया और दार-ए-सलाम, तंजानिया में अमेरिकी दूतावासों पर हमला किया। रिवार्ड्स फॉर जस्टिस कार्यक्रम उन सूचनाओं के लिए $5 मिलियन तक का इनाम दे रहा है, जिससे इन हमलों के लिए ज़िम्मेदार किसी भी व्यक्ति को न्याय की दहलीज पर लाया जा सके।

 

नैरोबी में, आतंकवादियों ने विस्फोटकों से भरे ट्रक को चलाते हुए अमेरिकी दूतावास के पार्किंग गेराज के निकट एक भयानक बम विस्फोट किया, जिसमें दूतावास के 44 कर्मचारियों (12 अमेरिकी और 32 विदेशी नागरिक) सहित 213 व्यक्तियों की मौत हो गई और अमेरिकी राजदूत प्रूडेंस बुशनेल सहित 5000 से अधिक लोग घायल हो गए थे।

 

दार एस सलाम में, आतंकवादियों ने विस्फोटकों से भरे ट्रक को दूतावास के दरवाजे पर चढ़ाने की कोशिश की, चांसरी पर गोली चलाना शुरू कर दिया, और फिर अपने विस्फोटकों में विस्फोट कर दिया। इसके परिणामस्वरूप हुए विस्फोट में 11 लोग मारे गए और 85 घायल हो गए।

 

बम विस्फोट से दूतावास की इमारतों को गंभीर नुकसान पहुंचा और पास के कार्यालय और व्यावसायिक प्रतिष्ठान नष्ट हो गए।

 

हमलों के संबंध में अमेरिकी फेडरल अदालत में निम्नलिखित व्यक्तियों मुकदमा चलाया गया और दोषी ठहराया गया था:  
  • अल-क़ायदा के एक संस्थापक सदस्य मैमदो महमूद सलीम को सितंबर, 1998 में जर्मनी में गिरफ्तार किया गया था और प्रत्यर्पित किया गया था। बम विस्फोटों में उसके संबंध के कारण उसे फेडरल जेल में आजीवन कारावास की सजा दी गई है।
  • अक्टूबर 2001 में अल-क़ायदा के कार्यकर्ता वादीह अल-हेज, खलफान खमिस मोहम्मद, मोहम्मद राशीद दाउद अल-ओहाली, और मोहम्मद सादीक ओदेह को दूतावास बमबारी की योजना बनाने और इसे अंजाम देने के लिए दोषी ठहराया गया और आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई।
  • जनवरी 2011 में अल-क़ायदा के सदस्य अहमद खलफान गिलानी को दोषी ठहराया गया और बम विस्फोटों में उसकी भूमिका के लिए अमेरिकी अदालत में आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई।  
  • सितंबर 2014 में अदेल अब्देल बारी, अल-क़ायदा नेता जवाहिरी के एक करीबी सहयोगी, ने अमेरिकी नागरिकों को मारने की साजिश रचने की बात कबूल की और उसे फेडरल अदालत में 25 साल की सजा सुनाई गई।
  • मई 2015 में ओसामा बिन लादेन के डिप्टी खलेद अल-फवाज को हमलों से संबंधित होने कारण फेडरल अदालत ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई।
बम विस्फोट के लिए अमेरिकी फेडरल ग्रैंड जूरी द्वारा निम्नलिखित प्रमुख संदिग्धों पर आरोप लगाया गया था:  

अयमान अल-जवाहिरी, अल-क़ायदा का वर्तमान अगुआ

सैफ अल-अदल, अल-क़ायदा का प्रमुख नेता

अब्दुल्लाह अहमद अब्दुल्लाह, अल-क़ायदा का प्रमुख नेता

ओसामा बिन लादेन, अल-क़ायदा का पूर्व अगुआ (मृत)

मोहम्मद अतेफ़, अल-क़ायदा का पूर्व सैन्य नेता (मृत)

अनस अल-लिबी, अल-क़ायदा का पूर्व प्रमुख नेता (मृत)

रिवार्ड्स फॉर जस्टिस कार्यक्रम सैयफ अल-अदल और अब्दुल्लाह अहमद अब्दुल्लाह के स्थान, गिरफ्तारी या दोष सिद्धि की जानकारी के लिए प्रत्येक के लिए $10 मिलियन तक का इनाम प्रदान कर रहा है, और अयमान अल-जवाहिरी के बारे में सूचना के लिए $25 मिलियन डॉलर तक का इनाम दिया जा रहा है।

 

अमेरिकी दूतावास बम विस्फोट से संबंधित पुरस्कार की पेशकशें

अयमान अल-जवाहिरी

अब्दुल्लाह अहमद अब्दुल्लाह

सैयफ अल-अदल

की अतिरिक्त फोटो

English PDF
की फोटो यू.एस. दूतावासों पर बम गिराया जाना
की फोटो यू.एस. दूतावासों पर बम गिराया जाना
की फोटो यू.एस. दूतावासों पर बम गिराया जाना
की फोटो यू.एस. दूतावासों पर बम गिराया जाना