वॉन्टेड
जानकारी जो न्याय तक पहुंचाती है...

ज़फर

$3 मिलियन तक पुरस्कार

ज़फर, जिसे अमर के नाम से भी जाना जाता है, अल-शबाब का एक समंवयक और परिचालन योजना बनाने वाला है। उसने अब्देलकादिर मोहम्मद अब्दिलकादिर उर्फ़ इकरिमा के लिए एक सहायक के तौर पर काम किया है।

अल-शबाब इस्लामी अदालतों की सोमाली परिषद के ऐसी आंतकवादी लहर थी जिसने 2006 के दूसरे अर्द्ध में, दक्षिणी सोमलिया के अधिकतर हिस्से पर कब्ज़ा कर लिया था। अल-शबाब ने दक्षिणी और मध्य सोमालिया में अपने हिंसक उग्रवाद को जारी रखा है। इस समूह ने बहुत सी बम्बारियों की जिम्मेदारी लेने का दावा किया है – जिसमें कई प्रकार के आत्मघाती हमले भी शामिल हैं – मोगादिशु और मध्य और उत्तरी सोमलिया में, आम तौर पर सोमाली सरकार के अधिकारियों और सोमालिया की संक्रमणकालीन संघीय सरकार (TFG) के कथित सहयोगियों को निशाना बनाया। अल-शबाब कम्पाला, युगान्डा में जुलाई 11, 2010 को हुए जुड़वां आत्मघाती हमलों के लिए जिम्मेदार था, जिसमें 70 से अधिक लोग मारे गये, जिनमें एक अमेरिकी भी शामिल था। इस समूह ने सोमाली शांति कार्यकर्ताओं, अंतर्राष्ट्र्रीय सहायक कर्मियों, अनगिनत नागरिक सामाजिक व्यक्तियों और पत्रकारों की हत्या भी की है।

अमेरिकी डिपार्टमेंट ऑफ स्टेट ने अल-शबाब को फरवरी 26, 2008 को अप्रवासन और राष्ट्रीयता अधिनियम (जैसा कि संशोधित किया गया है) की धारा 219 के तहत और फरवरी 29, 2008 को कार्यकारी आदेश 13224 के तहत एक विशेष तौर पर नामित वैश्विक आंतकवादी संगठन एक विदेशी आंतकवादी संगठन घोषित किया है। फरवरी 2012 को, अल-शबाब और अल-कायदा ने अपने औपचारिक गठबंधन की घोषणा की थी।