वॉन्टेड
जानकारी जो न्याय तक पहुंचाती है...

हुसैन मुहम्मद अल-उमरी

$5 मिलियन तक पुरस्कार

अमेरिका के विदेश विभाग ने ऐसी सूचना के लिए 5 मिलियन डॉलर तक का पुरस्कार प्राधिकृत किया है जिसके जरिये हुसैन मुहम्मद अल-उमरी गिरफ़्तार और/अथवा दोष सिद्ध हो सके।

हुसैन मुहम्मद अल–उमरी की 11 अगस्त, 1982 को पैन अमेरिकन वर्ल्ड एयर्वेज की उड़ान 830 की बम्बारी में कथित भागीदारी के लिए FBI को तलाश है, जिसके परिणाम में एक यात्री की हत्या हुई, 16 मुसाफ़िर जख़्मी हुए, और विमान पर सवार 267 यात्रियों तथा चालक दल की हत्या का प्रयास किया गया। अल-उमरी उन तीन लोगों में से एक था जिन्हें उस आतंकवादी कृत्य के लिए आरोपित किया गया है और उस पर आरोप है कि उसने उस विस्फोटक उपकरण का डिजाइन बनाया और उसका निर्माण किया जो उस समय फटा जब विमान नारीटा, जापान से होनोलूलू, हवाई उड़ान पर था।

अल-उमरी पर डिस्ट्रिक्ट ऑफ कोलम्बिया में संयुक्त राज्य अमेरिका की जिला अदालत में ये अभियोग लगाये गये: (1) हमला करने और सम्पत्ति को नुकसान पहुंचाने की साजिश; (2) ह्त्या करने की साजिश; (3) हत्या; (4) विमान में तोड़-फोड़; (5) विदेश वाणिज्य में इस्तेमाल होने वाले विमान को क्षति पहुंचाना; (6) विमान पर बम रखना; (7) आक्रमण; (8) विमान में तोड़फोड़ का प्रयास; और (9) उकसाना तथा सहायता देना। 1998 में एक सह- षडयंत्रकरी, मोहम्म्द राशेद को, जिसने विमान पर बम रखा था, गिरफ़्तार कर लिया गया और अमेरिका लाया गया। उसने उस बम्बारी में अपनी भूमिका का दोषी होना स्वीकार किया और अदालत में पेश अपनी दलील के एक अंग के तौर पर एक सहयोग सहमति पर हस्ताक्षर किए।

विश्वास किया जाता है कि अल-उमरी निपुण बम निर्माता है और “15 मई” आतंकवादी दल का एक समय नेता था, अल-उमरी पर फ़्रांस की सरकार ने भी 1985 में पैरिस में मार्क्स एवं स्पैंसर डिपार्टमेंट स्टोर और लियूमी बैंक की बमबारी में उसकी भूमिका के लिए अभियोग लगाया है।

अल-उमरी के पास लेबनान का पासपोर्ट हो सकता है, जहां ख़बर है कि उसकी पत्नी रहती है। वह दो बेटों और दो बेटियों का पिता है। वह कई वर्ष ईराक में रहा। हांलाकि फ़िलहाल वह कहां है यह ज्ञात नहीं है, लेकिन सम्भव है कि वह लेबनान या इराक़ में रह रहा हो। कहा जाता है कि वह हमेशा हथियार ले कर सफ़र करता है और उसे अस्त्र से लैस और ख़तरनाक समझा जाना चाहिये।

अतिरिक्त फोटो

हुसैन मुहम्मद अल-उमरी