वॉन्टेड
जानकारी जो न्याय तक पहुंचाती है...

बशीर मुहम्मद महामूद

$5 मिलियन तक पुरस्कार

बशीर मुहम्मद महामूद हराकत शबाब अल-मुजाहिदीन (अल-शबाब) की फौज का कमांडर है। 2008 के अंत में, वह अल-शबाब की नेतृत्व काउंसिल पर मौजूद लगभग 10 सदस्यों में से एक था। महामूद और उसका एक सहायक 10 जून 2009 को मोगादिशु में सोमाली अस्थायी संघीय सरकार (TFG) के विरूद्ध हुए मोर्टार हमले के नेता थे। साथ ही, 2007 में, उसने सोमालिया में अल-कायदा की गतिविधि को समन्वयित किया। अप्रैल 2010 में, महामूद को अमेरिका के ट्रेजरी विभाग ने कार्यकारी आदेश 13536 के तहत सोमालिया में हिंसा में योगदान देने और सुरक्षा को बिगाड़ने के लिए नामित घोषित कर दिया था।

अल-शबाब इस्लामिक अदालतों की सोमाली कांउसिल का फौजी हिस्सा था जिसने 2006 के दूसरे हिस्से में दक्षिणी सोमालिया के ज़्यादातर हिस्से पर कब्ज़ा कर लिया था। अल-शबाब ने दक्षिणी और केन्द्रीय सोमालिया में हिंसात्मक बगावत को चालू रखा हुआ है। इस समूह ने कई बंबबारियों की जिम्मेदारी ली है – जिसमें मोगादिशु और दक्षिणी और केन्द्रीय सोमालिया में कई प्रकार के आत्मघाती हमले भी शामिल हैं, आम तौर पर यह समूह सोमाली सरकारी अधिकारियों और सोमालिया की अस्थायी संघीय सरकार (TFG) के सहायकों को निशाना बनाते हैं। अल-शबाब को अक्टूबर 2008 में पांच समन्वयित आत्मघाती कार हमलों के लिए जिम्मेदार होने की संभावना थी जिनमें एक ही समय पर उत्तरी सोमालिया के दो शहरों के ठिकानों पर हमला किया गया, जिसमें कम से कम 26 लोग मारे गये और 29 घायल हो गये। अल-शबाब कम्पाला, उगांडा में 11 जुलाई 2010 को दो आत्मघाती बंमबारियों के लिए जिम्मेदार था, जिसमें 70 से अधिक लोग मारे गये, उनमें एक अमरीकी भी था। यह समूह सोमाली शांति क्रियावादियों, अंतर्राष्ट्रीय सहायक कर्मचारियों, अनगिनत सामाजिक लोगों और पत्रकारों की हत्या के लिए जिम्मेदार है। फरवरी 2012 में, अल-शबाब और अल-कायदा ने अपने औपचारिक गठबंधन का ऐलान किया। अमेरिकी डिपार्टमेंट ऑफ स्टेट ने अल-शबाब को अप्रवासी और राष्ट्रीयता अधिनियम (जैसा संशोधित है) धारा 219 के तहत 26 फरवरी 2008 को एक विदेशी आतंकवादी संगठन नामित किया है और 29 फरवरी 2008 को कार्यकारी आदेश 13224 के तहत एक विशेष रूप से नामित वैश्विक आतंकवादी घोषित किया है।