नवीनतम खबरें

लेबनानी हिज़बुल्लाह का वित्तीय नेटवर्क

रिवॉर्ड्स फॉर जस्टिस कार्यक्रम लेबनानी हिज़बुल्लाह की वित्तीय प्रक्रियाओं को खत्म करने के संबंध में जानकारी के लिए $10 मिलियन तक के इनाम की पेशकश कर रहा है। हिज़बुल्लाह जैसे आतंकवादी समूह अपने संचालनों को बनाए रखने और वैश्विक रूप से हमले करने के लिए फाइनैंसिंग और सहायता नेटवर्कों पर निर्भर हैं। हिज़बुल्लाह इरान से सीधे वित्तीय सहयोग, अंतर्राष्ट्रीय व्यापारों और निवेशों, दानी नेटवर्कों, भ्रष्टाचार, और मनी लांड्रिंग (हवाला) संबंधी गतिविधियों के द्वारा वार्षिक तौर पर लगभग एक अरब डॉलर हासिल करता है। समूह इस पैसे का उपयोग पूरी दुनिया में अपनी दुष्ट गतिविधियों को सहयोग करने के लिए करता है, जिनमें शामिल हैं: असाद (Assad) तानाशाही के सहयोग में सीरिया में अपनी सेना के सदस्यों की तैनाती; अमरीकी वतन में निगरानी करने और गुप्त सूचनाएं एकत्र करने के लिए कथित संचालन; और इस हद तक बढ़ी हुई सेना क्षमताएं कि हिज़बुल्लाह अचूक मिसाइलें रखने का दावा करता है। इन आतंकवादी संचालनों के लिए पैसा, वित्तीय सहयोगियों और गतिविधियों — वित्तीय तौर पर सक्षम बनाने वालों और इंफ्रास्ट्रक्चर के हिज़बुल्लाह के अंतर्राष्ट्रीय नेटवर्क द्वारा दिया जाता है, जो हिज़बुल्लाह की ज़िंदगी का आधार हैं।

(पूरा पाठ्य »)

हमज़ा बिन लादेन

$1 मिलियन तक पुरस्कार

हमज़ा बिन लादेन पूर्व मृतक अल-क़ायदा नेता ओसामा बिन लादेन का बेटा है और अल-क़ायदा की नई शाखा में एक नेता के रूप में उभर रहा है। उसने इंटरनेट पर ऑडियो और वीडियो संदेश जारी किए हैं, जिनमें उसने अपने अनुयायियों को अमेरिका और उसके पश्चिमी सहयोगियों के खिलाफ हमले शुरू करने का आह्वान किया है, और उसने मई 2011 में अमेरिकी सेना द्वारा अपने पिता की हत्या का बदला लेने के लिए अमेरिका के खिलाफ हमले करने की धमकी दी है।

हमज़ा बिन लादेन का अल-कायदा के वरिष्ठ नेता अब्दुल्लाह अहमद अब्दुल्लाह की बेटी से शादी हुई है, जिसे नवंबर 1998 में एक संघीय ग्रैंड जूरी द्वारा 7 अगस्त, 1998 मे दर एस सलाम, तंजानिया और नैरोबी, केन्या के अमेरिकी दूतावासों में बम विस्फोट में उसकी भूमिका के लिए आरोपित किया गया था। हमजा की शादी का एक वीडियो ओसामा बिन लादेन के एबटाबाद कंपाउंड में मिला था और इसे 2017 में CIA द्वारा जारी किया गया था। पाकिस्तान के एबटाबाद में जहाँ लादेन को मारा गया था वहाँ से ओसामा बिन लादेन के पत्रों को जब्त किया गया जो यह दर्शाते हैं कि वह हमज़ा को अल-कायदा के नेता के तौर पर अपना स्थान लेने के लिए प्रशिक्षण दे रहा था।

(पूरा पाठ्य »)

2008 मुम्बई पर हमले

मुम्बई, भारत | 26 -29 नवम्बर, 2008

26 नवंबर, 2008 से आरंभ करते हुए और 29 नवंबर, 2008 तक जारी रखते हुए पाकिस्तान स्थित विदेशी आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा (LeT) द्वारा प्रशिक्षित दस आक्रमणकारियों ने ताज महल होटल, ओबराय होटल, लियोपोल्ड कैफे, नैरीमन (चाबाड) हाउस और छत्रपति शिवाजी टर्मिनस ट्रेन स्टेशन सहित मुंबई, भारत में बहुत से ठिकानों पर अनेक समन्यवित हमले किए और लगभग 170 व्यक्तियों को मौत के घाट उतार दिया।

तीन दिन के घेरे के दौरान छह अमेरिकियों की मौत हुई थी: बेन ज़ियोन क्रोमैन, गेवरियल होल्टज़बर्ग, संदीप जेसवानी, एलन श्कर, उनकी पुत्री नाओमी श्कर और आर्ये लेबिश टेटेलबॉम।

(पूरा पाठ्य »)

सालिह अल-अरूरी

$5 मिलियन तक पुरस्कार

अक्टूबर 2017 में, सालिह अल-सरूरी, इज़ायद्दीन अल-कासम ब्रिगेड का एक संस्थापक, जो हमास की सैन्य शाखा है, हमास राजनीतिक ब्यूरो का उप नेता चुना गया था। अल-अरूरी वेस्ट बैंक में हमास की सैन्य कार्रवाईयों को वित्तपोषित एवं संचालित करता है और कई आतंकवादी हमलों, लूट-डकैती, और अपहरणों के साथ जोड़ा गया है। 2014 में, अल-अरूरी ने 12 जून, 2014 के आतंकवादी हमले के लिए हमास की जिम्मेदारी की घोषणा की, जिसमें वेस्ट बैंक में तीन इसरायली युवाओं को अगवा किया गया और मार डाला गया था, और जिसमें दोहरी नागरिकता वाला अमेरिकी-इसरायली नागरिक नफ़ताली फ्राएंकेल भी शामिल था। उसने सार्वजनिक तौर पर इन हत्याओं को एक “बहादुरी भरा कारनामा” बताकर इसकी प्रशंसा की थी। सितम्बर 2015 में, अमेरिकी ट्रेजरी विभाग ने कार्यकारी आदेश 13224 के तहत अल-अरूरी को एक विशेष रूप से नामित वैश्विक आतंकवादी (SDGT) के तौर पर नामित किया, एक ऐसी कार्रवाई जिससे उसकी वित्तीय सम्पत्तियों पर प्रतिबंध लगा दिये गये थे।

(पूरा पाठ्य »)

खलील युसूफ़ हारब

$5 मिलियन तक पुरस्कार

खलील युसूफ़ हारब सेक्रेटरी जनरल हसन नसराल्लाह का करीबी परामर्शदाता है, जो कि लेबनानी हिज़बल्लाह आतंकवादी समूह का नेता है, और उसने ईरानी और फिलिस्तीनी आतंकवादी संगठनों के समूह के प्रमुख सैन्य संपर्क के रूप में सेवा की है। हारब ने फिलिस्तीनी क्षेत्रों और मध्य पूर्व के कई देशों में संगठन के सैन्य अभियानों की कमांड संभाली है और निरीक्षण किया है। 2012 के बाद से, हारब यमन में हिज़बल्लाह के राजनीतिक सहयोगियों को बड़ी मात्रा में राशियों के लेनदेन में शामिल रहा है। अगस्त 2013 में, संयुक्त राज्य अमेरिका के ट्रेजरी विभाग ने कार्यकारी आदेश 13224 के तहत हारब को एक विशेष रूप से नामित वैश्विक आतंकवादी घोषित किया था।

(पूरा पाठ्य »)

हैथम ‘अली तबाताबा’ई

$5 मिलियन तक पुरस्कार

हैथम ‘अली तबाताबा’ई एक प्रमुख हिज़बल्लाह सैन्य नेता है जिसने सीरिया और यमन दोनों में हिज़बल्लाह की विशेष सैन्य दलों की कमांड की है। सीरिया और यमन में तबाताबा’ई की कार्रवाईयाँ अस्थिर करने वाली क्षेत्रीय गतिविधियों की सहायता करने के लिए प्रशिक्षण, सामग्री, और कर्मी सेवा प्रदान करने के लिए हिज़बल्लाह प्रयास के बड़े हिस्से हैं। अक्टूबर 2016 में, डिपार्टमेंट ऑफ स्टेट ने कार्यकारी आदेश 13224 के तहत तबाताबा’ई को एक विशेष रूप से नामित वैश्विक आतंकवादी घोषित किया था।

(पूरा पाठ्य »)

कासिम अल-रिमी

$10 मिलियन तक पुरस्कार

अल-क़ायदा नेता अमान अल-ज़वाहिरी के प्रति निष्ठा की शपथ लेने और संयुक्त राज्य अमेरिका के खिलाफ नए सिरे से हमलों की अपील करने के फौरन बाद क़ासिम अल-रिमी को जून 2015 में AQAP का अमीर नामित किया गया था। अल-रिमी अफगानिस्तान में 1990 के दशक में अल-क़ायदा शिविर में प्रशिक्षित आतंकवादी है, और बाद में वह यमन लौट आया और AQAP का सैन्य कमांडर बन गया। 2005 में यमन में अमेरिकी राजदूत की हत्या की योजना बनाने के लिए उसे यमन में पांच साल की सजा सुनाई गई थी, और वह 2006 में बच निकला था। अल-रिमी का नाम साना में अमेरिकी दूतावास पर सितंबर 2008 के हमले से जोड़ा गया है, जिसमें 10 यमनी गार्ड, चार नागरिक और छह आतंकवादी मारे गए थे। अल-रिमी का नाम दिसंबर 2009 के अमेरिका जाने वाले एक विमान पर “अंडरवियर बॉम्बर” उमर फारूख अब्दुलमुत्तलब के आत्मघाती बम विस्फोट के प्रयास से जोड़ा जाता है। 2009 में, यमन की सरकार ने उसे यमन के अबयान प्रांत में एक अल-क़ायदा प्रशिक्षण शिविर चलाने का आरोपी बनाया था।

(पूरा पाठ्य »)

खालिद सईद अल-बतरफी

$5 मिलियन तक पुरस्कार

ख़ालिद अल-बतरफी यमन के हादरामौत प्रशासन में AQAP का एक वरिष्ठ सदस्य और AQAP की शूरा काउंसिल का एक पूर्व सदस्य है। 1999 में, उसने अफगानिस्तान की यात्रा की, जहां उसे अल-क़ायदा के अल-फारूख कैम्प में प्रशिक्षित किया गया। 2001 में, वह तालिबान के साथ अमेरिकी फौजों और उत्तरी-गठबंधन के खिलाफ लड़ा। 2010 में, अल-बतरफी यमन में AQAP में शामिल हुआ, यमन के अबयान प्रांत पर कब्जा करने के लिए AQAP के लड़ाकों का नेतृत्व किया, और उसे AQAP का अबयान का अमीर नामित किया गया। जून 2016 में अमेरिकी सेना की कार्रवाई में नासिर-अल-वुहायशी की मौत के बाद, उसने चेतावनी देते हुए एक बयान जारी किया कि अल-क़ायदा अमेरिकी अर्थव्यवस्था को नष्ट कर देगा और अन्य अमेरिकी हितों पर हमला करेगा।

(पूरा पाठ्य »)

अब्दुल्लाह अहमद अब्दुल्लाह

$10 मिलियन तक पुरस्कार

अब्दुल्लाह अल-क़ायदा का वरिष्ठ नेता और अल-क़ायदा की नेतृत्व परिषद “मजलिस अल-शूरा” का एक सदस्य है। अब्दुल्लाह अल-क़ायदा के लिए एक अनुभवी वित्तीय अधिकारी, सुविधाकार और प्रचालनात्मक योजनाकार है।

अब्दुल्लाह को 7 अगस्त, 1998 को दार-ए-सलाम, तंजानिया और नैरोबी, कीनिया में अमेरिकी दूतावासों में बम विस्फोट में उसकी भूमिका के लिए नवंबर 1998 में फेडरल ग्रैंड जूरी द्वारा दोषी पाया गया और अभियोगी पाया गया था। इस हमले में 224 नागरिकों की हत्या हुई थी और अन्य 5,000 से ज्यादा घायल हो गए थे।

1990 के दशक में, अब्दुल्लाह ने अल-क़ायदा के साथ-साथ सोमाली जनजातियों को सैन्य प्रशिक्षण प्रदान किया, जो ऑपरेशन रीस्टोर होप के दौरान मोगादिशु में अमेरिकी सेना के खिलाफ लड़े थे। वर्ष 1996-1998 से उसने अफ़गानिस्तान में कई अल-क़ायदा प्रशिक्षण शिविर संचालित किए।

(पूरा पाठ्य »)

सैफ अल-एदेल

$10 मिलियन तक पुरस्कार

अल अदल अल-क़ायदा का एक वरिष्ठ नेता और अल-क़ायदा की नेतृत्व परिषद “मजलिस अल-शूरा” का एक सदस्य है। अल अदल अल-क़ायदा की सैन्य समिति का भी प्रमुख है।

अल अदल को 7 अगस्त, 1998 के दार-ए-सलाम, तंजानिया और नैरोबी, कीनिया में अमेरिकी दूतावासों में बम विस्फोट में उसकी भूमिका के लिए नवंबर 1998 में फेडरल ग्रैंड जूरी द्वारा दोषी पाया गया और अभियोगी पाया गया था। इस हमले में 224 नागरिकों की हत्या हुई थी और अन्य 5,000 से ज्यादा लोग घायल हो गए थे।

मिस्र के गृह मंत्री की हत्या के प्रयास के बाद वर्ष 1987 में हजारों अन्य सरकार विरोधी आतंकवादियों के साथ उसकी गिरफ्तारी तक वह मिस्र के विशेष बल में लेफ्टिनेंट कर्नल था।

(पूरा पाठ्य »)

अब्दुल वाली

$3 मिलियन तक पुरस्कार

अब्दुल वाली जमात उल-अहरार (JuA) का नेता है, जो कि तहरीक-ऐ-तालिबान पाकिस्तान (TTP) से संबंधित एक उग्रवादी गुट है। रिपोर्ट की जाती है कि वह अफ़गानिस्तान के नांगरहार और कुनार प्रांतों से संचालन करता है।

वाली के नेतृत्व में, JuA पंजाब प्रांत में सबसे अधिक सक्रिय TTP नेटवर्कों में से एक रहा है और उसने पाकिस्तान भर में कई आत्मघाती बम्बारियाँ और अन्य हमले करने का दावा किया है।

मार्च 2016 में, JuA ने लाहौर पाकिस्तान के एक सार्वजनिक पार्क में एक आत्मघाती हमला किया था, जिसमें 75 लोग मारे गये थे और 340 घायल हो गये थे।

(पूरा पाठ्य »)

मंगल बाघ

$3 मिलियन तक पुरस्कार

मंगल बाघ लश्कर-ऐ-इस्लाम का नेता है, जो कि तहरीक-ऐ-तालिबान पाकिस्तान (TTP) से संबंधित एक उग्रवादी गुट है। उसके समूह ने नशीली दवाओं की तस्करी, तस्करी, अपहरण, नाटो रक्षा दलों पर छापे, और पाकिस्तान और अफ़गानिस्तान के बीच पारगमन व्यापार पर कर लगाकर राजस्व कमाया है।

बाघ ने 2006 के बाद से लश्कर-ए-इस्लाम का नेतृत्व किया है और पूर्वी अफ़गानिस्तान और पश्चिमी पाकिस्तान के उन क्षेत्रों में जिन्हें वह नियंत्रित करता है, विशेषकर नांगरहार प्रांत, अफ़गानिस्तान, में देयोबंदी इस्लाम के चरम संस्करण को लागू करते हुए अवैध राजस्व प्रवाह की रक्षा के लिए नियमित रूप से गठजोड़ों को स्थानांतरित करता रहा है।

खाइबर एजेंसी, पाकिस्तान में जन्मा, यह शख्स पैंतालिस वर्ष का माना जाता है। बाग अफरीदी जनजाति का एक सदस्य है। उसने कई सालों तक एक मदरसे में अध्ययन किया और बाद में अफ़गानिस्तान में आतंकवादी समूहों के साथ मिलकर लड़ा।

(पूरा पाठ्य »)

अहलाम अहमद अल-तामीमी

$5 मिलियन तक पुरस्कार

एक जॉर्डन नागरिक, अहलाम अहमद अल-तामीमी, को “खलती” और “हलाटी” के नाम से भी जाना जाता है, हमास के लिए एक दोषसिद्ध आतंकवादी संचालक है।

09 अगस्त 2001 को, अल-तमीमी एक भीड़ भरे यरूशलेम स्बेरो पिज्जेरिया पर एक बम और एक आत्मघाती हमलावर को ले गया, जहां बमधारियों ने विस्फोटकों में विस्फोट कर दिया, जिसमें सात बच्चों सहित 15 लोग मारे गए। हमले में दो अमेरिकी नागरिकों की मौत हो गई – जुडीश शोषना ग्रीनबाम, न्यू जर्सी से एक गर्भवती 31 वर्षीय स्कूल शिक्षिका, और 15 वर्षीय मल्का चाना रोथ मारे गये। 120 से अधिक लोग घायल हो गये, जिसमें चार अमेरिकी शामिल थे। हमास ने इस बम विस्फोट की जिम्मेदारी ली है।

(पूरा पाठ्य »)

तलाल हामिया

$7 मिलियन तक पुरस्कार

तलाल हामिया, हिज़बुल्लाह के बाहरी सुरक्षा संगठन (ESO) का मुखिया है, जो दुनिया भर में संगठित सेलों का रखरखाव करता है। ESO हिज़बुल्लाह का वह तत्व है जो लेबनान के बाहर आतंकवादी हमलों की योजना बनाने, समन्वित करने और निष्पादित करने के लिए जिम्मेदार है। इन हमलों में मुख्यता इसराइलियों और अमेरिकियों को निशाना बनाया जाता है।

अमेरिकी वित्त विभाग ने कार्यकारी आदेश 13224 के अधीन तलाल हामिया को 13 सितम्बर 2012 को मिडिल ईस्ट और दुनिया भर में हिज़बुल्लाह की आतंकवादी गतिविधियो के लिए सहायता प्रदान करने के लिए एक विशेष रूप से नामित वैश्विक आतंकवादी (SDGT) के तौर पर नामित किया था।

(पूरा पाठ्य »)

फाऊद शुकर

$5 मिलियन तक पुरस्कार

फाऊद शुकर लम्बे समय से हिज़बुल्लाह के सेक्रेटरी जनरल हसन नसराल्लह के लिए सैन्य मामलों पर एक वरिष्ठ सलाहकार है। शुकर एक वरिष्ठ हिज़बुल्लाह संचालक है जो दक्षिणी लेबनान में हिज़बुल्लाह सैन्य बलों का सैन्य कमांडर है। वह हिज़बुल्लाह की उच्चतम सैन्य इकाई, दी जेहाद काउंसिल पर कार्यरत है।

शुकर की हिज़बुल्लाह के लिए और की ओर से गतिविधियाँ 30 सालों से चली आ रही हैं। वह हिज़बुल्लाह के अब मृतक इमाद मुगनिया का एक करीबी सहायक था। शुकर ने बेरूत, लेबनान में 23 अक्टूबर, 1983 को अमेरिकी मरीन कोर बैरक्स पर की गई बमबारी की योजना बनाने और उसका निष्पादन करने में एक केन्द्रीय भूमिका अदा की, जिसमें 241 अमेरिकी सेवारत कर्मचारी मारे गये।

(पूरा पाठ्य »)

मुहम्मद अल-जवलानी (Muhammad al-Jawlani)

$10 मिलियन तक पुरस्कार

मुहम्मद अल-जवलानी, जिसे मोहम्मद अल-गोलानी के नाम से भी जाना जाता है, साथ ही मोहम्मद अल-जुलानी के नाम से भी जाना जाता है, वह आतंकवादी संगठन, अल-नुसराह फ्रंट (ANF), अल-कायदा की सीरिया ब्रांच का वरिष्ठ नेता है। अप्रैल 2013 में, अल-जवलानी ने अल-कायदा और इसके नेता अयमन अल-जवाहिरी के प्रति निष्ठा का वादा किया था। जुलाई 2016 में, अल-जवलानी ने एक ऑनलाइन वीडियो में अल-कायदा और अल-जवाहिरी की प्रशंसा की और दावा किया कि ANF अपना नाम बदलकर जबात फथ अल शाम (“लेवांत फ्रंट की विजय”) कर रहा है। अल-जवलानी के नेतृत्व में, ANF ने सीरिया भर में, अक्सर नागरिकों को लक्षित करते हुए बहुत से आतंकवादी हमले किये हैं। अप्रैल 2015 में, ANF के सीरिया में एक चेकप्वाइंट से लगभग 300 कुर्दिश नागरिकों को अगवा करने, और बाद में छोड़ देने की रिपोर्ट थी। जून 2015 में, ANF ने सीरिया के इडलिब प्रांत में ड्रूज़ गांव कुआलब लावजेह के 20 नागरिकों के नरसंहार की जिम्मेदारी ली थी। (पूरा पाठ्य »)

जोएल वेस्ले श्रुम की हत्या के लिए

ताइज़, यमन | 18 मार्च, 2012

18 मार्च 2012 को, श्रुर्म, उम्र 29 वर्ष की ताइज़, यमन में काम करने के लिए जाते समय रास्ते में गोली मारकर हत्या कर दी गई, गनमैन एक मोटरसाइकिल पर सवार था जो उसे वाहन के साथ ले आया था। उनकी मौत के समय, श्रुम एक अंतरराष्ट्रीय प्रशिक्षु और विकास केंद्र में एक प्रशासक और अंग्रेजी शिक्षक के रूप में काम कर रहे थे। वह यमन में अपनी पत्नी और दो छोटे बच्चों के साथ रह रहे थे। हमले के कुछ दिन बाद, आतंकवादी संगठन अल-कायदा इन अरब प्रायद्वीप (AQAP) ने हत्या के लिए जिम्मेदारी ली। अमेरिकी डिपार्टमेंट ऑफ़ स्टेट का रिवार्ड्स फॉर जस्टिस प्रोग्राम उन नागरिकों की गिरफ्तारी या दोषसिद्धि के लिए $5 मिलियन डॉलर का इनाम प्रदान कर रहा है, जिन्होंने अमेरिकी नागरिक जोएल श्रुम की हत्या की या हत्या की योजना बनाई, या उसमें सहायता की। (पूरा पाठ्य »)

अबु बकर अल-बगदादी (Abu Bakr al-Baghdadi)

$25 मिलियन तक पुरस्कार

अबु बकर अल-बगदादी, जिसे अबु दु’आ के नाम से भी जाना जाता है, इब्राहिम ‘अवध इब्राहिम ‘अली अल-बदरी के नाम से भी जाना जाता है, आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक एंड दी लेवांत (ISIL) का वरिष्ठ नेता है। जो खतरा अल-बगदादी की वजह से बना हुआ है, वह उसकी स्थिति, गिरफ्तारी, या दोषसिद्धि की ओर ले जाने वाली जानकारी के लिए डिपार्टमेंट ऑफ स्टेट के 2011 में घोषित किये गये शुरुआती $10 मिलियन डॉलर के इनाम की पेशकश के बाद से काफी बढ़ गया है। जून 2014 में, ISIL (जिसे दा’ऐश के तौर पर भी जाना जाता है) ने सीरिया और इराक के कुछ हिस्सों पर नियंत्रण कर लिया, एक इस्लामिक खिलाफत की स्थापना की घोषणा कर दी, और अल-बगदादी को खलीफा के तौर पर नामित कर दिया। हाल ही के कुछ वर्षों में, ISIL ने दुनिया भर के जेहादी समूहों और उग्रवादी व्यक्तियों की निष्ठा हासिल कर ली है, और अमेरिका में हमलों को प्रेरित किया है। (पूरा पाठ्य »)

गुलमुरोद खलीमोव (Gulmurod Khalimov)

$3 मिलियन तक पुरस्कार

पूर्व तज़ाकिस्तान विशेष अभियान कर्नल, पुलिस कमांडर और सैन्य निशानची गुलमुरोद खलीमोव एक इराक के इस्लामी राज्य और लेवंत (ISIL) का एक सदस्य और भर्ती करने वाला व्यक्ति है। वह तज़ाकिस्तान गृह मंत्रालय में एक विशेष अर्धसैनिक इकाई का कमांडर था। खलीमोव एक प्रचार वीडियो में दिखाई दिया था जिससे यह पुष्टि होती है कि वह ISIL के लिए लड़ता है और उसने अमेरिकियों के खिलाफ हिंसक कृत्य करने के लिए खुलेआम कहा है। (पूरा पाठ्य »)

अबु मोहम्मद अल-शिमाली (Abu-Muhammad al-Shimali)

$5 मिलियन तक पुरस्कार

इराक और लेवांत के वरिष्ठ इस्लामी राज्य (ISIL) के बार्डर चीफ़ तिराद अल-जरबा, जो अबू मोहम्मद अल-शमाली के नाम से विख्यात है, वह ISIL के साथ संबंधित रहा है, जिसे पहले 2005 से इराक में अल-कायदा इन ईरान के नाम से जाना जाता था। वह ISIL की प्रवासन और रसद समिति में एक महत्वपूर्ण अधिकारी के रूप में कार्य करता है, और मुख्य रूप से गाज़ियांटैप, टर्की के माध्यम से और फिर ISIL नियंत्रित जाराबुलुस, सीरिया के सीमावर्ती शहर तक विदेशी आतंकवादी सेनानियों की यात्रा को सुगम बनाने के लिए जिम्मेदार है। अल-शामाली और प्रवासन और रसद समिति तस्करी की गतिविधियों, वित्तीय हस्तांतरण, और यूरोप, उत्तरी अफ्रीका और अरब प्रायद्वीप से सीरिया और इराक में रसद के आने-जाने का (पूरा पाठ्य »)

इराक और लेवांत के इस्लामी राज्य (ISIL) को फायदा पहुंचाने वाली तेल और पुरावशेषों की तस्करी को महत्वपूर्ण रूप से नुकसान पहुंचाने वाली जानकारी

आतंकवादी समूह इराक और लेवांत के इस्लामी राज्य (ISIL), जिसे इसके अरबी संक्षिप्त शब्द DAESH के तौर पर भी जाना जाता है, द्वारा, के लिए, की ओर से या को फायदा पहुंचाने वाली तेल और पुरावशेषों की बिक्री और/या व्यापार को महत्वपूर्ण रूप से नुकसान पहुंचाने वाली अग्रणी जानकारी के लिए रिवार्ड फॉर जस्टिस कार्यक्रम $5 मिलियन के इनाम की पेशकश कर रहा है। (पूरा पाठ्य »)